उत्तराखंड का नया मुख्यमंत्री कौन? इस तारीख को सभी BJP विधायकों को देहरादून पहुंचने का आदेश, सीएम के साथ मंत्रियाें के नाम की भी होगी घोषणा!

देहरादून: उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद से प्रदेश के नये मुख्‍यमंत्री और कैबिनेट मंत्रियों को लेकर कयासों का दौर जारी है। मुख्यमंत्री के साथ-साथ नई मंत्रिपरिषद के सदस्यों के चयन का होमवर्क अब अंतिम दौर में है। भाजपा विधायक दल की बैठक 20 मार्च को प्रस्तावित है। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री के नाम पर फैसला होने के साथ ही नए मंत्रियों के नामों का भी ऐलान कर दिया जाएगा। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनवीर सिंह चौहान के अनुसार, उत्तराखंड के सभी भाजपा विधायकों को 20 मार्च को देहरादून पहुंचने के लिए कहा गया है।

20 मार्च को विधायक दल की बैठक में नए सीएम को लेकर होगी औपचारिकता पूरी

सूत्रों के मुताबिक, 19 मार्च को दिल्‍ली में पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की अहम बैठक होनी है। इस दौरान राज्‍य के नये सीएम के नाम पर मुहर लग सकती है। बताया जा रहा है कि, भाजपा शीर्ष नेतृत्व ने उत्तराखंड की नई सरकार का खाका करीब-करीब तय कर लिया है। 20 मार्च को विधायक दल की बैठक होनी है। इसी दिन नेता सदन के चयन की औपचारिकता पूरी की जाएगी और उसी दिन विधायकों को शपथ दिलाने की भी तैयारी है।

सत्र की वजह से मंत्रिपरिषद भी जल्द

वहीं, उत्तराखंड में नये मुख्यमंत्री और मंत्रियों का शपथ ग्रहण कार्यक्रम 22 मार्च को होने की संभावना है। नई सरकार के गठन के तत्काल बाद विधानसभा का बजट सत्र शुरू होना है। ऐसे में माना जा रहा है कि सदन में विपक्ष के हमलों का जवाब देने के लिए सरकार का संपूर्ण रूप में सदन में होना जरूरी है। इसीलिए माना जा रहा है कि मंत्रियों के ऐलान और शपथ में इस बार देरी की संभावना नहीं है। वहीं खबर है कि साल 2024 में होने वाले लोकसभा चुनावों को ध्यान में रखकर क्षेत्रीय और जातीय संतुलन के आधार पर नई कैबिनेट के गठन की कवायद चल रही है। मंत्रियों की दिल्ली दौड़ को भी इसी से जोड़कर देखा जा रहा है। बता दें कि कुछ दिन पहले ही बीजेपी ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी को केंद्रीय पर्यवेक्षक नियुक्त किया।

मेगा इवेंट की तरह आयोजित होगा शपथ ग्रहण समारोह

पार्टी के मीडिया प्रभारी मनवीर सिंह चौहान ने कहा कि, उत्तराखंड में नई सरकार का शपथ ग्रहण समारोह भव्य और दिव्य होगा। इसके लिए प्रदेश प्रभारी ने संगठन के पदाधिकारियों को जरुरी निर्देश दिए गए हैं।

खबर है कि, मेगा इवेंट की तरह आयोजित होने वाले इस समारोह में केंद्रीय नेताओं के अलावा बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल होंगे। पूरा इवेंट मिशन 2024 को ध्यान में रखते हुए तैयार होगा, जिसका सभी जिलों और मंडलों में एलईडी पर सीधा प्रसारण किया जाएगा। भाजपा शपथग्रहण समारोह के जरिये 2024 के लिए संदेश देना चाहती है।

लगातार दूसरी बार एक ही पार्टी की जीत से टूटा मिथक

गौरतलब है कि, उत्तराखंड के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि किसी दल ने लगातार दो चुनाव जीतकर बहुमत हासिल किया है। इससे पहले पांच साल बाद सरकार बदलने का नियम था। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में भाजपा को इस बार 70 में से 47 सीटों पर जीत मिली है। जबकि कांग्रेस 19 सीटों पर सिमट गयी है। वहीं, बसपा को दो सीट तो दो पर निर्दलीय कैंडिडेट जीते हैं।

इस बार भी नहीं टूटा सीएम के चुनाव हारने का सिलसिला

हालांकि प्रदेश में सीएम के चुनाव हारने का सिलसिला नहीं टूटा है। इस बार सीएम पुष्‍कर सिंह धामी को खटीमा से हार का सामना करना पड़ा है। सीएम धामी के खटीमा से चुनाव हारने के बाद नये सीएम को लेकर कयासों का दौर जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
error: कॉपी नहीं, शेयर कीजिए!