सरकारी नौकरी के नाम पर बेरोजगारों से डेढ़ करोड़ ठगने वाली महिला गिरफ्तार, पहचान छुपाकर कर रही थी ये काम.. – Bharatjan Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News, Latest Khabar

देहरादून: बेरोजगार युवाओं से सरकारी नौकरी लगवाने के नाम पर ठगी करने वाले पति- पत्नी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। यह दोनों बेरोजगारों से करीब डेढ़ करोड़ रुपए ठगकर फरार हो गए थे। पति को 2020 में पुलिस ने हरियाणा से गिरफ्तार किया था, वही फरार चल रही इनामी अभियुक्ता पत्नी को पुलिस ने महाराष्ट्र से गिरफ्तार किया, जहां वो ठिकाने और पहचान बदल- बदल कर रह रही थी।

नौकरी लगवाने के नाम पर ठगे 01 करोड़ 42 लाख

पुलिस के अनुसार, वर्ष 2019 में आजाद डिमरी ने थाना नेहरू कॉलोनी पर लिखित तहरीर दी। जिसमे बताया कि, नेहरू कॉलोनी क्षेत्र में मृणाल धूलिया व योगिता धूलिया ने ओजस्वी एसोसिएट नाम से फर्म संचालित की। इन्होंने उत्तरांखड आयुर्वेदिक यूनिवर्सिटी में फार्मासिस्ट के पदों पर नौकरी लगवाने और उत्तराखंड सरकार से 90 पदों का सृजन करने के एवज में कई बेरोजगारों से लगभग 01 करोड़ 42 लाख रुपये ठगे और दोनों पति- पत्नी फरार हो गए हैं।

पति को 2020 में हरियाणा से किया था गिरफ्तार

इस शिकायत पर थाना नेहरू कालोनी पर मु0अ0स0: 13/19 धारा 420,406,506, 120बी भादवि का अभियोग पंजीकृत किया गया। पुलिस टीम ने गहनता से विवेचना कर साक्ष्य संकलन की कार्यवाही की। लेकिन दोनों अभियुक्त ठगी के पश्चात से ही फरार हो गए थे। पुलिस ने कुशल सुरागरसी व इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस की मदद से अभियुक्त मृणाल धूलिया को 07 जुलाई 2020 को हरियाणा से गिरफ्तार किया था, जो वर्तमान में जेल में है। लेकिन योगिता धूलिया अभियोग पंजीकृत होने के बाद से ही लगातार फरार चल रही थी, जिसके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हुए थे। साथ ही अभियुक्ता पर 15 हजार रुपए का ईनाम भी घोषित किया गया था।

फरार पत्नी को महाराष्ट्र से किया गिरफ्तार

वर्तमान में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून (SSP DEHRADUN) द्वारा ईनामी अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए निर्देश दिए गए है, जिसके क्रम में ईनामी अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए थाना नेहरू कॉलोनी व एसओजी की संयुक्त टीम गठित की गई और मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया गया। गठित टीम ने वांछित चल रही ईनामी अभियुक्ता योगिता धूलिया को 28 जुलाई 2022 को रायगढ़ महाराष्ट्र से गिरफ्तार किया।

ठिकाने बदल- बदल कर और पहचान छुपाकर बनी थी कंप्यूटर शिक्षक

अभियुक्ता योगिता धूलिया ठगी के बाद से ही मुम्बई में ठिकाने बदल- बदल कर रह रही थी और अपनी पहचान गुप्त रखते हुए एप्टेक कंप्यूटर सेंटर में कंप्यूटर शिक्षक के तौर पर कार्य कर रही थी। अभियुक्ता को स्थानीय न्यायालय में पेश कर ट्रांजिट रिमांड लेकर देहरादून लाया गया। अभियुक्ता को समय से न्यायालय के समक्ष पेश किया जायेगा।

मूल रूप से पौड़ी गढ़वाल की रहने वाली है अभियुक्ता

गिरफ्तार अभियुक्ता योगिता धूलिया (उम्र 38 वर्ष) पत्नी मृणाल धूलिया, ग्राम धुलकोट पो राजवाट कोटद्वार जनपद पौड़ी गढ़वाल की रहने वाली है। जिसका हाल निवास फ्लैट दव 401 बिल्डिंग नम्बर-12 ए-विंग गार्डिनिया तलोजा रायगढ़ नवी मुम्बई महाराष्ट्र में है।

पुलिस टीम को एसएसपी ने किया पुरस्कृत

फरार इनामी अभियुक्ता की गिरफ्तारी करने वाली पुलिस टीम को एसएसपी ने 10 हजार रुपए के पुरस्कार से पुरस्कृत करने की घोषणा की। पुलिस टीम में उपनिरीक्षक अरुण असवाल, चौकी प्रभारी फव्वारा चौक, आरक्षी पंकज कुमार एस0ओ0जी0, आरक्षी अमित कुमार एस0ओ0जी0, म0आरक्षी नमिता रावत, थाना नेहरू कॉलोनी, आरक्षी किरन और आरक्षी दीपक डिमरी (एस0ओ0जी0) शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
error: कॉपी नहीं, शेयर कीजिए!