पूर्व सीएम हरीश रावत ने जाहिर की नाराजगी तो सीधे घर पहुंच गए धामी, जानिए दोनों के बीच क्या हुईं बातें..

देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के आवास पर जाकर उनसे शिष्टाचार भेंट की। दूसरी बार सीएम का पद संभालने के बाद सीएम धामी पहली बार देहरादून के ओल्ड मसूरी रोड स्थित हरीश रावत के आवास पहुंचे। हालांकि, मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता हरीश रावत के बीच यह मुलाकात औपचारिक थी। सीएम ने आधा घंटे से ज्यादा वक्त उनके साथ गुजारा। राज्य हित से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर विस्तार से सकारात्मक चर्चा की।

हरीश रावत ने धामी को दोबारा सीएम बनने पर शुभकामनाएं दी। कहा कि, उन पर अब और भी अधिक जिम्मेदारी हैं। सरकार को राज्य की अपेक्षाओं पर खरा उतरना होगा। रावत के मीडिया कोर्डिनेटर जसबीर सिंह रावत ने कहा कि, दोनों ने काफी समय साथ गुजारा। इस दौरान विभिन्न विषयों पर बातचीत की।

बता दें कि, मुख्यमंत्री के रूप में धामी की दूसरी पारी के शपथ-ग्रहण समारोह में विपक्षी नेता नदारद दिखे थे। इसके पीछे पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत का तर्क था कि, उनको समारोह में प्रोटोकॉल के तहत निमंत्रण न भेजकर आम नागरिक से तरह आमंत्रित किया गया था, जो सही नहीं था। इसे लेकर हरीश रावत ने एक ट्वीट करके अपनी नाराजगी भी जाहिर की थी। पूर्व सीएम हरीश रावत में लिखा था कि,

“मुख्यमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में कांग्रेस की अनुपस्थिति को लेकर टिप्पणियां हुई हैं, जो स्वभाविक हैं। हमारा कोई उद्देश्य शपथ ग्रहण से दूरी बनाए रखने का नहीं था। मैंने फेसबुक पर बधाई भी दी और पूरे शपथ ग्रहण समारोह को अपने मोबाइल फोन में देखा भी। मुझे जो निमंत्रण पत्र भेजा गया था, उस निमंत्रण पत्र के साथ कार पार्क और कोई स्थान इंडिकेटर अभिसूचित नहीं था। जिस अवसर पर देश के शीर्षस्थ शासक वर्ग उपस्थित हो, वहां यदि आप बिना पूर्व निर्धारित स्थान और बिना कार पार्किंग, प्रवेशद्वार इत्यादि की जानकारी बिना पहुंचते हैं, तो आप सुरक्षा हैजार्ड भी बन सकते हैं। मैंने बहुत विचार करने के बाद न जाने का फैसला किया। पिछली बार ऐसा अवसर आया था तो मैं गया था और मंच पर मैंने, मुख्यमंत्री मंत्रीगणों व भाजपा के नेतागणों को बधाई दी थी और उनके साथ बैठा था। मेरा मानना है मुख्यमंत्री का शपथ ग्रहण समारोह एक राज्य का महत्वपूर्ण अवसर होता है, उस अवसर पर विपक्ष के नेताओं और पूर्व मुख्यमंत्रियों को सम्मानपूर्वक बुलाया जाना चाहिए और उनको वहां जाना भी चाहिए, राजनीतिक सौहार्द की यह आवश्यकता है।”

वहीं, इस बीच मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के आवास पहुंचे और उनसे शिष्टाचार भेंटकर कुशलक्षेम पूछी। मुलाकात के बाद सीएम धामी ने कहा कि, उत्तराखण्ड की राजनीति के शिखर पुरुषों में से एक, प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व वरिष्ठ कांग्रेसी नेता हरीश रावत से भेंट कर उनका कुशलक्षेम जाना। मैं भगवान बद्रीनाथ और बाबा केदार से उनके स्वस्थ जीवन की कामना करता हूं और आशा करता हूं कि वो निरंतर जनसेवा में लगे रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
error: कॉपी नहीं, शेयर कीजिए!